121. ॐ के लाभ

श्री गणेशाय नमः

श्री श्याम देवाय नमः

  • इससे मन को एकाग्र करने में मदद मिलती है।
  • इसके नियमित उच्चारण से मानसिक बीमारियां दूर होती हैं।
  • दिल की धड़कन और रक्त संचार ठीक रहता है।
  • काम करने की शक्ति बढ़ती है।
  • इसका उच्चारण करने वाला और सुनने वाला दोनों ही लाभान्वित होते हैं।
  • ॐ का ध्यान करने से जीवन में आने वाली बाधाएं स्वत: ही दूर हो जाती हैं।
  • रोग, निराशा, संदेह, आलस्य, झूठी धारणा, काम, क्रोध, लोभ, मोह आदि ये सब मानसिक बीमारियां दूर हो जाती हैं।
  • मानसिक विकृतियों के साथ शारीरिक दर्द, शरीर में कंपन और सांस लेने में परेशानी आदि ॐ का उच्चारण करने से दूर हो जाती हैं।
  • अगर आपको घबराहट हो रही हो तो ॐ का उच्चारण कीजिए।
  • यह शरीर के विषैले तत्वों को दूर करता है अर्थात् तनाव के कारण होने वाले द्रव्यों पर नियंत्रण करता है।
  • पाचन शक्ति तेज होती है।
  • यह हृदय और ख़ून के प्रवाह को संतुलित रखता है।
  • नियमित उच्चारण करने से शरीर में स्फूर्ति का संचार होता है।
  • कुछ प्राणायाम भी साथ किए जाएं तो फेफडों में मजबूती आती है।
  • नींद न आने की समस्या इससे कुछ ही समय में दूर हो जाती है। रात को सोते समय इस को लगातार करने से कुछ ही समय में नींद की समस्या दूर हो जाती है।
  • कायरतापूर्ण विचारों का आना बंद हो जाता है।
  • जीवन से भय का नाश हो जाता है। मनुष्य निर्भीक होकर अपनी जिंदगी जीता है।
  • परिस्थितियों को पहले ही भांपने की शक्ति उत्पन्न हो जाती है।
  • जीवन से क्रोध खत्म हो जाता है।
  • जीवन जीने की शक्ति और दुनिया की चुनौतियों का सामना करने का अपूर्व साहस मिलता है।
  • इससे जीवन के उद्देश्य स्पष्ट होते हैं और हमें ईश्वर का सानिध्य प्राप्त होता है।
  • अगर ॐ का उच्चारण लंबे समय तक किया जाए तो हमारे अंदर ईश्वर को महसूस करने की ताकत प्राप्त हो जाती है।
  • इस दुनिया में आकर अंधी दौड़ में खो चुके खुद को फिर से पहचान मिलती है। स्वयं को जानने के बाद मनुष्य दौड़ में शामिल नहीं होता बल्कि अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए दौड़ता है।

One thought on “121. ॐ के लाभ”

Leave a Reply