45.दोषपूर्ण उपलब्धियां

श्री गणेशाय नम्ः

श्री श्याम देवाय नम्:

जीवन में ज्यादातर मनुष्यों का एक स्वप्न होता है, कि उनके पास प्रचुर मात्रा में धन-दौलत हो ताकि वह जीवन के हर क्षेत्र में सफलता का वरण करते हुए आकाश की उंचाईयों को छूए। उनका उच्च स्तरीय रहन-सहन हो, ऐसो – आराम के सारे साधन उपलब्ध हों, नौकर – चाकर हों। बंग्ला-गाड़ी हो। कहने का तात्पर्य यह है कि वह संसार की महंगी से महंगी वस्तुओं को उपभोग करना चाहते हैं।

हमारे में से ज्यादातर मनुष्य यही चाहते हैं कि उनका समाज में खूब दबदबा हो, उनकी जयजयकार होती रहे। उनके पास सर्वाधिक भौतिक संसाधन हों। इस तरह के स्वप्न देखना या इच्छा रखना मेरे ख्याल से कोई बुरी बात नहीं है। लेकिन इसके लिए कड़ी मेहनत की ज़रूरत होती है। प्राय: देखने में आता है कि अधिकांश लोग इसी मामले में विफल हो जाते है। वे इस तरह की सारी उपलब्धियाँ रातों- रात प्राप्त करना चाहते हैं। बस वे यही भूल जाते हैं कि वे इन उपलब्धियों को पाने के लिए परिश्रम और धैर्य का रास्ता छोड़ देते हैं और उतावले होकर गलत रास्ते पर चले जाते हैं। अधिक उपलब्धियाँ प्राप्त करने के चक्र में वे पथभ्रष्ट हो जाते हैं, उनके विवेक और बुद्धि काम करना बन्द कर देती है। ऐसे लोग सही- गलत, अपना-पराया का भेद भूल जाते हैं, जिसके कारण उनका नज़रिया नकारात्मक हो जाता है। उनके जीवन का उद्देश्य केवल ज्यादा से ज्यादा धन-दौलत कमाना है, फिर चाहे वह किसी भी रास्ते से प्राप्त हो। ऐसे लोग छल, कपट, धोखा और अनैतिक कार्यो में लिप्त हो जाते हैं। इस रास्ते पर चलकर वे भले ही अपने उद्देश्य में कुछ हद तक सफलता प्राप्त कर लें, लेकिन धीरे – धीरे उनमें एक अज्ञात भय भी सताने लगता है। वैसे भी कहा गया है कि किसी भी उपलब्धि के लिए ठोस आधार उसी प्रकार होना जरूरी है, जिस प्रकार किसी भवन या महल के लिए मजबूत आधार की ज़रूरत होती है।

आदिशक्ति का अंश होने के कारण हम सभी शक्ति से सम्पन्न हैं। जो मनुष्य इस सत्य को समझता है, वह इसका सदुपयोग करते हुए आत्महित के कार्य करता है। इसके विपरीत जो इस सत्य की अनदेखी करता है और स्वयं को ही परम ज्ञानी और शक्तिशाली समझने की भूल करता है, वह व्यर्थ में ही अहम् के भाव से भरकर अपने साथ-साथ दूसरों का भी अहित कर बैठता है। वह खुद तो दोषपूर्ण उपलब्धियों का शिकार होता ही है, इसके साथ ही वह बहुत सारे मनुष्यों का जीवन जहन्नुम बना देता है। सफलता प्राप्त करने के लिए उसने जो छल, कपट, धोखे का रास्ता चुना था, उससे उनका जीवन बर्बाद हो जाता है, जो इसके चंगुल में फंस जाते हैं, वे लोग समाज में महामारी फैलाने का कार्य करते हैं। जीवन में विविध प्रकार की उपलब्धियों के लिए धर्म और धैर्य का रास्ता नहीं छोड़ना चाहिए। दूसरों का हिस्सा हड़प कर उनको धोखा देकर प्राप्त उपलब्धियां दोषपूर्ण हैं। इससे परिवार से लेकर समाज तक में कटुता और वैमनस्य का वातावरण बनता है।

दोषपूर्ण उपलब्धियों का स्वामी बनकर वह अहंकार के वशीभूत हो जाता है। अहंकार का सम्बन्ध अनर्थ से है, विनाश से है। अहंकार से पीड़ित मनुष्य की बुद्धि कुटिल, संकीर्ण और संशयी हो जाती है। भक्त, विभक्त हो जाता है और आत्मा अंधकार से ग्रस्त हो जाती है। इन दुर्गुणों के दुष्प्रभावों से मनुष्य आत्मियहीन एवम् मित्रहीन हो जाता है । उसकी सफलता संदिग्ध हो जाती है और अंततः अपयशों और असफलताओं का बोझ लिए ही उसका जीवन समाप्त हो जाता है।

लंकापति रावण इसका एक बहुत बड़ा उदाहरण है। रावण जैसा विद्वान, साहसी और शक्तिशाली राजा और कोई इस संसार में दूसरा नहीं हुआ। वह एक बहुत बड़ा शास्त्र ज्ञाता था। उसने बहुत सारी सिद्धियाँ अपने तप के बल पर प्राप्त की थी। लेकिन अपने अहंकार के मद में चूर होकर उसनेे सीता माता का हरण कर लिया। ये उसकी बहुत बड़ी दोषपूर्ण उपलब्धि थी। माता सीता कोई साधारण स्त्री नहीं थी। वह शक्ति स्वरूपा थी। वह रावण का अहंकार तोड़ने के लिए ही जन्मी थी। वह नारी शक्ति थी। लेकिन अहंकार के वशीभूत हुआ रावण यह सत्य जान न पाया और घोर पाप कर बैठा। इसका क्या दुष्परिणाम हुआ, इससे कोई अनभिज्ञ नही है। न केवल रावण मारा गया, उसकी वह सोने की लंका भी जल गई, जिस पर उसे बड़ा अभिमान था। यह दोषपूर्ण उपलब्धि उसके जीवन को कलंकित कर गई । इतने बड़े विद्वान का जहाँ सम्मान होना चाहिये था, वहाँ अपमान का सामना करना पड़ा। युग बीत जाने के बावजुद भी उसका कलंक कम नहीं हुआ, बल्कि बढ़ता ही जाता है।

ऐसी उपलब्धियों से अच्छा तो बगैर उपलब्धि के है। कम से कम अपमान और अपयश का सामना तो नहीं करना पड़ेगा। साधारण मनुष्य होने के कारण हम सभी परिस्थितियों के अधीन हो कभी-कभी अहंकार के प्रभाव में आ जाते हैं। यह कुछ हद तक सामान्य है, लेकिन दुर्गण तो हर परिस्थिति में त्याज्य है। कोई भी संसारिक सुख प्राप्त करने से पहले मन से खुद बात करनी चाहिए। जो ऐसा नहीं करता उसे दुख और कष्ट मिलता है। इसलिए कहा गया है कि-‘ बिना विचारे जो करे, सो पाछे पछताये ‘ लेकिन आज की स्थिति पर गौर किया जाए, तो हर कोई एक-दूसरे का विश्लेषण तो कर रहा है, पर खुद आत्म – विश्लेषण पर उसका ध्यान नहीं जा रहा है । यदि कोई व्यक्ति दूसरों के घर के कूड़े-करकट की सफाई करता है, तो उस व्यक्ति का घर तो साफ हो जायेगा, पर अपने घर में गंदगी बनी रहेगी। जबकि हर व्यक्ति को अपना घर साफ रखना चाहिये। यही बात आचरण के लिए भी ज़रूरी है। हमने अपने आचरण और व्यवहार में मर्यादा रखनी चाहिए। हमें इस बात की चिंता छोड़ देनी चाहिए की कौन, कैसा है उसके आचरण को सुधारने की बजाय अपने स्वभाव और आचरण को उत्तम बनाऐं ,तो हमारी ही छवि उतम होगी। मर्यादा में रहकर कोई भी कार्य करेंगे तो एक न एक दिन सफलता अवश्य प्राप्त होगी और वही उपलब्धि ख्याति दिलवाएगी।

1 thought on “45.दोषपूर्ण उपलब्धियां”

Leave a Comment

Shopping Cart
%d bloggers like this: